Popular Posts

What’s Hot

Shiv sama rahe/ शिव समा रहे Hindi English Lyrics - Hansraj Raghuwanshi Lyrics

 

Shiv sama rahe/ शिव समा रहे Hindi English Lyrics - Hansraj Raghuwanshi Lyrics

Singer Hansraj Raghuwanshi
Singer Hansraj Raghuwanshi
Music Ricky T GiftRulers
Song Writer Suman Thakur ( Advocate )

Song – Shiv sama rahe
Lyrics – Suman Thakur
Music – Ricky T GiftRulers
Singer – Hansraj Raghuwanshi


Shiv sama rahe Lyrics




Om Namah Shivay
Om Namah Shivay

Shiv Sama Rahe Mujhme
Aur Main Shunya Ho Raha Hoon
Shiv Sama Rahe Mujhme
Aur Main Shunya Ho Raha Hoon

Krodh Ko, Lobh Ko
Krodh Ko, Lobh Ko
Main Bhasma Kar Raha Hoon

Shiv Sama Rahe Mujhme
Aur Main Shunya Ho Raha Hoon
Om Namah Shivay

Shiv Sama Rahe Mujhme
Aur Main Shunya Ho Raha Hoon
Om Namah Shivay

(Shiv Mantrouchcharan)

Teri Banai Duniya Mein
Koi Tujh Sa Mila Nahi
Main Toh Bhatka Darbadar
Koi Kinara Mila Nahi





Jitna Paas Tujhko Ko Paya
Utna Khud Se Door Ja Raha Hoon

Shiv Sama Rahe Mujhme
Aur Main Shunya Ho Raha Hoon
Om Namah Shivay

Shiv Sama Rahe Mujhme
Aur Main Shunya Ho Raha Hoon
Om Namah Shivay

Maine Khud Ko Khud Hi Bandha
Apni Khinchi Lakeeron Mein
Main Lipat Chuka Tha
Ichha Ki Zanjeero Mein

Anant Ki Gahraiyon Mein
Samay Se Door Ho Raha Hoon
Shiv Pranon Mein Utar Rahe
Aur Main Mukt Ho Raha Hoon

Shiv Sama Rahe Mujhme
Aur Main Shunya Ho Raha Hoon

Wo Subah Ki Pahli Kiran Mein
Wo Kastoori Ban Ke Hiran Mein
Megho Me Garje, Gunje Gagan Mein
Ramta Jogi, Ramta Gagan Mein

Wo Hi Vayu Mein, Wo Hi Aayu Mein
Wo Jism Mein, Wo Hi Rooh Mein
Wo Hi Chhaya Mein, Wo Hi Dhoop Mein
Wo Hi Hain Har Ek Roop Mein
O Bhole O

Krodh Ko, Lobh Ko
Krodh Ko, Lobh Ko
Main Bhasma Kar Raha Hoon

Shiv Sama Rahe Mujhme
Aur Main Shunya Ho Raha Hoon
Om Namah Shivay





Shiv Sama Rahe Mujhme
Aur Main Shunya Ho Raha Hoon
Om Namah Shivay


शिव समा रहे मुझ में लिरिक्स 

Shiv Sama Rahe Muj Me

Lyrics Hansraj Raghuvanshi


शिव समा रहे मुझ में,
और मैं शून्य हो रहा हूँ।
शिव समा रहे मुझ में,
और मैं शून्य हो रहा हूँ।

क्रोध को लोभ को,
क्रोध को, लोभ को,
मैं भस्म कर रहा हूँ,
शिव समा रहे मुझ में,
और मैं शून्य हो रहा हूँ।
ॐ नमः शिवाय,
शिव समा रहे मुझ में,
और मैं शून्य हो रहा हूँ।
ॐ नमः शिवाय,
ब्रह्ममुरारि सुरार्चित लिंगम्
निर्मलभासित शोभित लिंगम्।
जन्मज दुःख विनाशक लिंगम्
तत् प्रणमामि सदाशिव लिंगम्
ब्रह्ममुरारि सुरार्चित लिंगम्
निर्मलभासित शोभित लिंगम्।
जन्मज दुःख विनाशक लिंगम्
तत् प्रणमामि सदाशिव लिंगम्

शिव की बनाई दुनियाँ मैं,
कोई शिव सा मिला नहीं,
मैं तो भटका दर बदर,
कोई किनारा मिला नहीं,
जितना पास शिव को पाया,
उतना खुद से दूर जा रहा हूँ,
शिव समा रहे मुझ में,
और मैं शून्य हो रहा हूँ।
ॐ नमः शिवाय,
शिव समा रहे मुझ में,
और मैं शून्य हो रहा हूँ।
ॐ नमः शिवाय,

मैंने खुद को खुद ही बाँधा,
अपनी खींची लकीरों में,


मैं लिपट चूका था,
इच्छा की जंजीरों में,
अनंत की गहराइयों में,
समय से दूर हो रहा हूँ,
शिव समा रहे मुझ में,
और मैं शून्य हो रहा हूँ।
ॐ नमः शिवाय,
शिव समा रहे मुझ में,
और मैं शून्य हो रहा हूँ।
ॐ नमः शिवाय,

वो सुबह की पहली किरण में,
वो कस्तूरी बन के हिरण में,
मेघों में गरजें, गरजे गगन में,
रमता जोगी, रमता गगन में,
वो ही वायु में, वो ही आयु में,
वो जिस्म में, वो ही रूह में,
वो ही छाया में, वो ही धुप में,
वो ही है एक रूप में,
भोले, क्रोध को लोभ को,
क्रोध को, लोभ को,
मैं भस्म कर रहा हूँ,
शिव समा रहे मुझ में,
और मैं शून्य हो रहा हूँ।
ॐ नमः शिवाय,
शिव समा रहे मुझ में,
और मैं शून्य हो रहा हूँ।
ॐ नमः शिवाय।




0 Comments:

Post a Comment

Please do not enter any Spam link in the Comment Box.