दिल से रे Se Re - A R Rahman, Harmony- Anuradha & Harmony- Anupama Lyrics


Dil Se Re - A R Rahman, Harmony- Anuradha & Harmony- Anupama Lyrics

दिल से रे  Se Re - A R Rahman, Harmony- Anuradha & Harmony- Anupama Lyrics

Singer A R Rahman, Harmony- Anuradha & Harmony- Anupama
Music A R Rahman
Song Writer Gulzar



दिल से रे - Dil Se Re (A.R.Rehman, Dil Se)

Movie/Album: दिल से (1998)

Music By: ए.आर.रहमान

Lyrics By: गुलज़ार

Performed By: ए.आर.रहमान



इक सूरज निकला था

कुछ तारा पिघला था

इक आँधी आयी थी

जब दिल से आह निकली थी

दिल से रे



दिल तो आखिर दिल है ना

मीठी सी मुश्किल है ना

पिया पिया, पिया पिया ना पिया

जिया जिया, जिया जिया ना जिया

दिल से रे...



दो पत्ते पतझड़ के पेड़ों से उतरे थे

पेड़ों की शाखों से उतरे थे

फिर कितने मौसम गुज़रे, वो पत्ते दो बेचारे

फिर उगने की चाहत में, वो सहराओं से गुज़रे

वो पत्ते दिल-दिल-दिल थे, वो दिल थे, दिल-दिल थे

दिल है तो फिर दर्द होगा, दर्द है तो दिल भी होगा

मौसम गुज़रते रहते हैं

दिल है तो फिर दर्द होगा, दर्द है तो दिल भी होगा

दिल से, दिल से, दिल से, दिल से रे

दिल तो आखिर...



बन्धन है रिश्तों में, काँटों की तारें हैं

पत्थर के दरवाज़े, दीवारें

बेलें फिर भी उगती हैं और गुँचे भी खिलते हैं

और चलते हैं अफ़साने, किरदार भी मिलते हैं

वो रिश्ते दिल-दिल-दिल थे, वो दिल थे, दिल-दिल थे

ग़म दिल के बस चुलबुले हैं, पानी के ये बुलबुले हैं

बुझते ही बनते रहते हैं

दिल से, दिल से, दिल से, दिल से रे


Dil Se Re


ik sooraj nikala tha

kuchh taara pighala tha

ik aandhee aayee thee

jab dil se aah nikalee thee

dil se re



dil to aakhir dil hai na

meethee see mushkil hai na

piya piya, piya piya na piya

jiya jiya, jiya jiya na jiya

dil se re...



do patte patajhad ke pedon se utare the

pedon kee shaakhon se utare the

phir kitane mausam guzare, vo patte do bechaare

phir ugane kee chaahat mein, vo saharaon se guzare

vo patte dil-dil-dil the, vo dil the, dil-dil the

dil hai to phir dard hoga, dard hai to dil bhee hoga

mausam guzarate rahate hain

dil hai to phir dard hoga, dard hai to dil bhee hoga

dil se, dil se, dil se, dil se re

dil to aakhir...



bandhan hai rishton mein, kaanton kee taaren hain

patthar ke daravaaze, deevaaren

belen phir bhee ugatee hain aur gunche bhee khilate hain

aur chalate hain afasaane, kiradaar bhee milate hain

vo rishte dil-dil-dil the, vo dil the, dil-dil the

gam dil ke bas chulabule hain, paanee ke ye bulabule hain

bujhate hee banate rahate hain

dil se, dil se, dil se, dil se re

SingerA R Rahman, Harmony- Anuradha & Harmony- Anupama
MusicA R Rahman
Song WriterGulzar



Post a Comment

0 Comments