Popular Posts

What’s Hot

Kandhon Se Milte Hain Kandhe - Shankar Mahadevan, Sonu Nigam, Hariharan, Roop Kumar Rathod, Kunal Ganjawala and Vijay Prakash Lyrics In Hindi



Kandhon Se Milte Hain Kandhe - Shankar Mahadevan, Sonu Nigam, Hariharan, Roop Kumar Rathod, Kunal Ganjawala and Vijay Prakash Lyrics

Kandhon Se Milte Hain Kandhe - Shankar Mahadevan, Sonu Nigam, Hariharan, Roop Kumar Rathod, Kunal Ganjawala and Vijay Prakash Lyrics In Hindi


Singer Shankar Mahadevan, Sonu Nigam, Hariharan, Roop Kumar Rathod, Kunal Ganjawala and Vijay Prakash
Singer Shankar Ehsaan Loy
Song Writer Javed Akhtar

Kandhon Se Milte Hain Kandhe / कंधों से मिलते हैं कंधे

कंधों से मिलते हैं कंधे, क़दमों से कदम मिलते हैं

हम चलते हैं जब ऐसे तो दिल दुश्मन के हिलते हैं



अब तो हमें आगे बढ़ते है रहना

अब तो हमें साथी है बस इतना ही कहना

अब जो भी हो शोला बन के पत्थर है पिघलाना

अब जो भी हो बादल बन के पर्बतपर है छाना



निकले हैं मैदाँ में हम जां हथेली पर लेकर

अब देखो दम लेंगे हम जा के अपनी मंज़िल पर

खतरों से हँसके खेलना इतनी तो हम में हिम्मत है

मोडे कलाई मौत की इतनी तो हम में ताक़त है

हम सरहदों के वास्ते लोहे की एक दीवार हैं

हम दुश्मनों के वास्ते होशियार हैं, तैय्यार हैं

अब जो भी हो शोला बन के पत्थर है पिघलाना

अब जो भी हो बादल बन के पर्बतपर है छाना

कंधों से मिलते हैं कंधे, क़दमों से कदम मिलते हैं

हम चलते हैं जब ऐसे तो दिल दुश्मन के हिलते हैं





जोश दिल में जगाते चलो , जीत के गीत गाते चलो

जीत की जो तस्वीर बनाने हम निकले हैं

अपने लहू से हमे को उसमे रंग भरना हैं

साथी मैंने अपने दिल में अब ये थान लिया है

या तो अब करना है, या तो अब मरना है

चाहे अंगारे बरसे की बिजली गिरे

तू अकेला नहीं होगा यारा मेरे

कोई मुश्किल या हो कोई मोर्चा

साथ हर मोड़ पे होंगे साथी तेरे

अब जो भी हो शोला बन के पत्थर है पिघलाना

अब जो भी हो बादल बन के पर्बतपर है छाना

कंधों से मिलते हैं कंधे, क़दमों से कदम मिलते हैं

हम चलते हैं जब ऐसे तो दिल दुश्मन के हिलते हैं



एक चेहरा अक्सर मुझे याद आता है

इस दिल को चुपके चुपके वो तड़पाता है

जब घर से कोई भी खत आया है

कागज़ को मैंने भीगा भीगा पाया है

पलको पे यादों के कुछ दीप जैसे जलते है

कुछ सपनें ऐसे है जो साथ साथ चलते हैं

कोई सपना ना टूटे कोई वादा ना टूटे

तुम चाहो जिसे दिल से वो तुमसे ना रूठे

अब जो भी हो शोला बन के पत्थर है पिघलाना

अब जो भी हो बादल बन के पर्बतपर है छाना

कंधों से मिलते हैं कंधे, क़दमों से कदम मिलते हैं

हम चलते हैं जब ऐसे तो दिल दुश्मन के हिलते हैं



चलता है जो ये कारवां, गूंजी सी है ये वादियाँ

है ये जमीं, ये आसमा, है ये हवा, है ये समा

हर रस्ते ने, हर वादी ने, हर परबत ने सदा दी है

हम जीतेंगे, हम जीतेंगे, हम जीतेंगे, हर बाज़ी

कंधों से मिलते हैं कंधे, क़दमों से कदम मिलते हैं

हम चलते हैं जब ऐसे तो दिल दुश्मन के हिलते हैं



Kandhon Se Milte Hain Kandhe Lyrics

Kndhon se milate hain kndhe, kdamon se kadam milate hain

Ham chalate hain jab aise to dil dushman ke hilate hain



Ab to hamen age badhte hai rahana

Ab to hamen saathi hai bas itana hi kahana

Ab jo bhi ho shola ban ke patthar hai pighalaana

Ab jo bhi ho baadal ban ke parbatapar hai chhaana



Nikale hain maidaan men ham jaan hatheli par lekar

Ab dekho dam lenge ham ja ke apani mnjil par

Khataron se hnsake khelana itani to ham men himmat hai

Mode kalaai maut ki itani to ham men taaqat hai

Ham sarahadon ke waaste lohe ki ek diwaar hain

Ham dushmanon ke waaste hoshiyaar hain, taiyyaar hain

Ab jo bhi ho shola ban ke patthar hai pighalaana

Ab jo bhi ho baadal ban ke parbatapar hai chhaana

Kndhon se milate hain kndhe, kdamon se kadam milate hain

Ham chalate hain jab aise to dil dushman ke hilate hain





Josh dil men jagaate chalo , jit ke git gaate chalo

Jit ki jo taswir banaane ham nikale hain

Apane lahu se hame ko usame rng bharana hain

Saathi mainne apane dil men ab ye thaan liya hai

Ya to ab karana hai, ya to ab marana hai

Chaahe angaare barase ki bijali gire

Tu akela nahin hoga yaara mere

Koi mushkil ya ho koi morcha

Saath har mod pe honge saathi tere

Ab jo bhi ho shola ban ke patthar hai pighalaana

Ab jo bhi ho baadal ban ke parbatapar hai chhaana

Kndhon se milate hain kndhe, kdamon se kadam milate hain

Ham chalate hain jab aise to dil dushman ke hilate hain



Ek chehara aksar mujhe yaad ata hai

Is dil ko chupake chupake wo tadapaata hai

Jab ghar se koi bhi khat aya hai

Kaagaz ko mainne bhiga bhiga paaya hai

Palako pe yaadon ke kuchh dip jaise jalate hai

Kuchh sapanen aise hai jo saath saath chalate hain

Koi sapana na tute koi waada na tute

Tum chaaho jise dil se wo tumase na ruthhe

Ab jo bhi ho shola ban ke patthar hai pighalaana

Ab jo bhi ho baadal ban ke parbatapar hai chhaana

Kndhon se milate hain kndhe, kdamon se kadam milate hain

Ham chalate hain jab aise to dil dushman ke hilate hain



Chalata hai jo ye kaarawaan, gunji si hai ye waadiyaan

Hai ye jamin, ye asama, hai ye hawa, hai ye sama

Har raste ne, har waadi ne, har parabat ne sada di hai

Ham jitenge, ham jitenge, ham jitenge, har baazi

Kndhon se milate hain kndhe, kdamon se kadam milate hain

Ham chalate hain jab aise to dil dushman ke hilate hain





0 Comments:

Post a Comment

Please do not enter any Spam link in the Comment Box.